सीरवी किसान की ऐतिहासिक धरोहर सीरवी किसान छात्रावास पाली अपने वर्तमान स्वरूप में पिछले ४८ वर्षो से सतत विकास की परम्परा के उत्तरोत्तर उत्कर्ष का प्रतिफल हे, छात्रावास अपनी गौरवपूर्ण परम्परोऔ एम विशेष उपलब्धियों के कारण पाली जिले में श्रेष्ठ छात्रावास में से एक है छात्रावास की स्थापना विक्रम संवत २०२२ माघ सुदी १०, मंगलवार दिनांक १.२.१९६६ को केराराम जी सोलंकी , कानमल जी परिहारया नाडोल, राजाराम जी चोयल, अचलाराम जी काग़, गणेश जी सोलंकी की मौजूदगी में रखी गई ।समाज सेवी आज भी अपनी सेवाएं छात्रावास में लगातार दे रहे है ।छात्रावास के शुआती दोर में ९ विधर्थी रहे थे आज यह छात्र संख्या १२०-१३० के ओसत से है ।

छात्रावास भवन निर्माण विकास के उतरोतर क्रम में समाज के भामाशाहो का योगदान निरंतर प्राप्त हो रहा है ।वर्तमान समय में कुल ६१ कमरे है जिनमे एक कार्यालय, १ अतिथि कक्ष, १ स्टोर रूम के लिए आवंटित किए हुए है । साथ ही एक ४० *३० का एक सभा भवन व् ४०*२० की एक भोजनशाला तथा १३ शौचालय व् स्नानघर उपलध है । छात्रावास को और अधिक सुविधा उक्त बनाने हेतु समाज के शिक्षा से जुड़े समाज सेवी एम भामाशाहो तथा समाज के शिक्षा में में विभिन्न संस्थओं से निरंतर संपर्क बनाये रखकर इसके विकास हेतु सदेव प्रयत्नशील है ।